What is Article 370? क्‍या है अनुच्‍छेद 370 [Full Detail In Hindi]

What is Article 370? क्‍या है अनुच्‍छेद 370 [Full Detail In Hindi]

क्‍या है आखिर से अनुच्‍छेद 370 क्‍यो यह जम्‍मू-कश्‍मीर को भारत के अन्‍य राज्‍यों से अलग करता हैं सब जानिये इस पोस्‍ट में एक साथ तो आखिर तक इस पोस्‍ट को जरूर पढे और अपने दोस्‍तों के साथ शेयर भी जरूर करे ।

What is Article 370

भारतीय संविधान की धारा 370 जम्‍मू-कश्‍मीर को विशेष राज्‍य का दर्जा प्रदान करती हैं, भारतीय संविधान में अस्‍थायी, संक्रमणकालीन और विशेष उपबन्‍ध संबंधी भाग 21 का अनुच्‍छेद 370 जवाहरलाल नेहरू के विशेष हस्‍तक्षेप से तैयार किया गया था । 1947 के विभाजन के समय जब जम्‍मू-कश्‍मीर को भारत में शामिल करने की प्रक्रिया शुरू हुई तब जम्‍मू-कश्‍मीर के राजा हरिसिंह स्‍वतंत्र रहना चाहते थे, इसी दौरान पाकिस्‍तान समर्थित कबिलाइयों ने वहां आक्रमण कर दिया । जिसके बाद उन्‍होने भारत में विलय के लिये सहमति दी । उस समय की आपातकालीन स्थिति के मददेनजर कश्‍मीर का भारत में विलय करने की संवैधानिक प्रक्रिया पूरी करने का समय नही था, इसलिये संघीय संविधान सभा में गोपालस्‍वामी आयंगर ने धारा 306-क का प्रारूप पेश किया, वही बाद में धारा 370 बनी

धारा 370 से जम्‍मू कश्‍मीर को कुछ विशेष अधिकार मिलते हैं चलिये वो भी हम आगे जान लेते हैं ।

धारा 370 से जम्‍मू कश्‍मीर को मिलने वाले विशेषाधिकार

  1. धारा 370 के प्रावधानों के मुताबिक संसद को जम्‍मू कश्‍मीर के बारे में रक्षा, विदेश मामले और संचार के विषय के कानून बनाने का अधिकार हैं ।
  2. किसी अन्‍य विषय से संबंधित कानून को लागू करवाने के लिये केंद्र को राज्‍य सरकार की सहमति लेनी पडती हैं, इसी विशेष दर्जे के कारण जम्‍मे-कश्‍मीर राज्‍य पर संविधान की धारा 356 लागू नही होती है, राष्‍ट्रपति के पास राज्‍य के संविधान को बर्खास्‍त करने का अधिकार नही हैं ।
  3. 1976 का शहरी भूमि कानून भी जम्‍मू कश्‍मीर पर लागू नही होता, भारत के अन्‍य राज्‍यों के लोग कश्‍मीर में जमीन नही खरीद सकते हैं
  4. देश में वित्‍तीय आपातकाल लगाने वाला प्रावधान जम्‍मू कश्‍मीर पर लागू नही होता हैं ।
  5. जम्‍मू कश्‍मीर का झंडा अलग होता है, इसके साथ ही जम्‍मू कश्‍मीर के नागरिकों के पास दोहरी नागरिकता होती हैं ।
  6. जम्‍मू कश्‍मीर की कोई महिला यदि भारत के किसी अन्‍य राज्‍य के व्‍यक्ति से शादी कर ले तो उस महिला को जम्‍मू कश्‍मीर की नागरिकता खत्‍म हो जायेगी ।
  7. यदि कोई कश्‍मीरी महिला पाकिस्‍तान के किसी व्‍यक्ति से शादी करता हैं, तो उसके पति को भी जम्‍मू कश्‍मीर की नागरिकता मिल जाती हैं ।
  8. अनुच्‍छेद 370 के कारण कश्‍मीर में रहने वाले पाकिस्‍तानियों को भी भारतीय नागरिकता मिल जाती हैं ।
  9. जम्‍मू कश्‍मीर की विधानसभा का कार्यकाल 6 साल होता हैं, जबकि भारत के अन्‍य राज्‍यों की विधानसभा का कार्यकाल 4 साल होता हैं ।
  10. भारत की संसद जम्‍मू कश्‍मीर के संबंध में बहुत ही सीमित दायरे में कानून बना सकती हैं ।
  11. जम्‍मू कश्‍मीर में महिलाओं पर शरियत कानून लागू हैं ।
  12. जम्‍मू कश्‍मीर में सूचना का अधिकार लागू नही होता हैं ।
  13. जम्‍मू कश्‍मीर में शिक्षा का अधिकार लागू नही होता हैं । यहां सीएजी (CAG) भी लागू नही होता हैं ।
  14. कश्‍मीर के अल्‍पसंख्‍यक हिन्‍दू और बौद्ध और सिख पर 16 फीसदी आरक्षण नही मिलता हैं ।

 

कुछ अन्‍य रोचक तथ्‍य

  • शरियत कानून जिसे शरीया क़ानून और इस्लामी क़ानून भी कहा जाता है, इस्लाम में धार्मिक क़ानून का नाम है

 

तो दोस्‍तो ये था आज का स्‍पेशल टापिक आपकों ये कैसा लगा आप हमे कमेंटस में जरूर बताये और अगर पसंद आया हो तो लाइक करें और अपने दोस्‍तों के साथ शेयर भी जरूर करे । तो मिलते है आपकों अगले पोस्‍ट में ।

Related posts

2 Thoughts to “What is Article 370? क्‍या है अनुच्‍छेद 370 [Full Detail In Hindi]”

  1. hostbase.io

    I must thank you for the efforts you’ve put in penning this website.

    I am hoping to view the same high-grade content from you in the future as well.
    In fact, your creative writing abilities has encouraged me to get my own blog now 😉 https://hostbase.io/hosting-server/vps-cloud.html

Leave a Comment