12th Chemistry ठोस अवस्‍था के अति लघुत्तरीय प्रश्न परीक्षापयोगी प्रश्‍न

ठोस अवस्‍था के अतिलघु उत्तरीय प्रश्न परीक्षापयोगी प्रश्‍न प्रश्न 1. क्रिस्टलीय ठोस क्या हैं?उत्तर- वे ठोस जिनमें घटक कणों की दीर्घ परास व्यवस्था होती है, क्रिस्टलीय ठोस कहलाते हैं। उदाहरणार्थ– चाँदी, ताँबा, सोडियम क्लोराइड आदि। प्रश्न 2. अक्रिस्टलीय ठोस को परिभाषित कीजिए।उत्तर- एक ठोस अक्रिस्टलीय कहलाता है, जब इसके अवयवी कणों की लघु परास व्यवस्था होती है। प्रश्न 3. आण्विक ठोस से आप क्या समझते हैं?उत्तर- जिन ठोसों के क्रिस्टल जालक सरल विविक्त अणुओं से बने होते हैं, वे आण्विक ठोस कहलाते हैं। उदाहरणार्थ– आयोडीन, सल्फर, सफेद फास्फोरस आदि। प्रश्न…

ठोस अवस्‍था के बहुविकल्पीय प्रश्न परीक्षापयोगी प्रश्‍नोत्‍तर

प्रश्न 1. एक विशेष ठोस अति कठोर है तथा इसका गलनांक अति उच्च है। ठोस अवस्था में यह अचालक है तथा प्रगलन पर यह विद्युत चालक हो जाता है। ठोस है।(i) धात्विक(ii) आण्विक(iii) नेटवर्क(iv) आयनिकउत्तर (iv) आयनिक प्रश्न 2. किस प्रकार के ठोस विद्युत चालक, आघातवर्धनीय और तन्य होते हैं?(i) आणिवक(ii) आयनिक(iii) धात्विक(iv) सहसंयोजकउत्तर (iii) धात्विक प्रश्न 3. ठोस Aएक अति कठोर ठोस तथा गलित अवस्था में विद्युतरोधी है और बहुत उच्च ताप पर पिघलता है। यह किस प्रकार का ठोस है?(i) आण्विक(ii) आयनिक(iii) धात्विक(iv) सहसंयोजकउत्तर (iv) सहसंयोजक प्रश्न 4.…

12th Chemistry ठोस अवस्‍था के महत्‍वपूर्ण लघुउत्‍तरीय प्रश्‍नोत्‍तर

प्रश्‍न 1 – काँच को अतिशीतित द्रव क्यों माना जाता है? Answer — क्योंकि यह ठोस होते हुए भी द्रवों के कुछ गुण प्रदर्शित करता है। द्रवों के समान इसमें प्रवाहित होने का गुण होता है। इसका यह गुण पुरानी इमारतों के काँच में देखा जा सकता है जो तली पर कुछ मोटा होता है। यह केवल तभी सम्भव है जबकि यह अत्यन्त मन्द गति से द्रवों के समान प्रवाहित हो। प्रश्‍न 2 – ठोसों का आयतन निश्चित क्यों होता है? उतर – ठोस के अवयवी कणों की स्थिति नियत…

Last hour preparation tips for uttarakhand board Imporatant topics

Last hour preparation tips for uttarakhand board IS POST ME HUMNE AAPKO KUCH IMPORTANT TOPICS BTAYE HAI JO AAP TAIYAR KRKE BOARD ME ACHE NUMBER LA SKTE HAI…. PHYSICAL CHEMISTRY — 30 – 35% SOLID STATE  SOLUTION  ELECTROCHEMISTRY CHEMICAL KINETICS SURFACE CHEMISTRY  GENERAL PRINCIPLES AND ISOLATION OF ELEMENTS UNIT I – SOLID STATE  DIFFERENCE BETWEEN CRYSTALLINE AND AMORPHOUS DIFFERENT TYPE OF UNIT CELL AND NO. OF ATOMS PER UNIT CELL CRYSTAL DENSITY AND NUMERICAL SCHOTTKY AND FRENKEL DEFECTS  F-ELEMENTS n-p TYPE SEMICONDUCTOR BAND THEORY  UNIT 2 – SOLUTIONS MOLARITY, MOLALITY…

ऑस्‍टवाल्‍ड विधि द्वारा नाइट्रिक अम्‍ल बनाने की विधि

ऑस्‍टवाल्‍ड विधि द्वारा नाइट्रिक अम्‍ल बनाने की विधि Ostwald process in hindi ऑस्‍टवाल्‍ड विधि द्वारा नाइट्रिक अम्‍ल बनाने की विधि इस विधि द्वारा HNO3 का निर्माण विभिन्‍न पदों मे किया जाता हैा  Step 1 – सबसे पहले NH3 की अभिक्रिया  O2 से कराते है । जिससे नाईट्रिक आक्‍साइड प्राप्‍त होता है ।  Step 2 – प्राप्‍त NO की अभिक्रिया पुन: O2 से कराते है जिससे NO2 प्राप्‍त होता है । Step 3 – प्राप्‍त NO2 में H2O मिलाकर HNO3 प्राप्‍त हो जाता है DIAGRAM — VIDEO TUTORIAL FOR THIS ARTICLE…

Important Chemistry Questions With Answer For Class 12th In Hindi (Pdf File Download)

Important Chemistry Questions With Answer For Class 12th In Hindi (Pdf File Download) यहां हम आपको कुछ महत्‍वपूर्ण प्रश्‍न-उतर बता रहे है जो पहले के पेपरो मे पुछे जा चुके है प्रश्‍न – 1 – कॉच को अतिशीतलीत द्रव क्‍यों कहते है ।  उतर –  कॉच को अतिशीलीत द्रव कहा जाता है इसके ि‍निम्‍न कारण है – कॉच की संरचना अक्र‍िस्‍टलीय होती है । इसकें द्रवनांक निश्चित नही होते है। जब कॉच को गर्म किया जाता हैं तो इसके विभिन्‍न रूप अलग- अलग ताप क्रम पर पिघलकर द्रव का रूप लेते…

विद्युत कण संचलन electrophoresis in hindi

विद्युत कण संचलन electrophoresis in hindi विद्युत कण संचलन कोलाइडी कणों पर एक निश्चित प्रकार का आवेश होता है यह वेद्युत क्षेत्र के प्रभाव में किसी विशेष इलेक्‍ट्रोड की ओर गति करता है । यदि कोलाइडी कण पाजिटिव हो तो वह कैथोड की ओर गति करता है। यदि वह निगेटिव होते है तो वह ऐनोड की ओर गति करता है यह घटना वेद्युत कण संचलन कहलाती है। Video Tutorial For The Article —

Gattermann koach reaction with mechanism ! Properties Of Phenol In Hindi

Gattermann koach reaction with mechanism ! Properties Of Phenol In Hindi Gattermann Koch Reaction ( गटरमैन कोच अभिक्रिया )  Gattermann Aldehyde Reaction  ( गटरमैन एल्डिहाइड अभिक्रिया ) 1.Gattermann koch Reaction ( गटरमैन कोच अभिक्रिया ) —  जब  Cu तथा Hcl Gas का मिश्रण उत्‍प्रेरक  Alcl3 /Cucl की उपस्थिति में  फीनाल  पर प्रवाहित करते है । Mechanism — Video Tutorial of This Article — Download Pdf —     इसका दूसरा भाग भी जल्‍द ही प्रकाशित कर दिया जायेगा । अगर आपको हमारे नोटस पसंद आ रहे हो तो आप अपने दोस्‍तों के…

बहुलक क्या होते हैं ? संरचना के आधार पर बहुलकों का वर्गीकरण

बहुलक what is polmer and its types in hindi बहुलक  ऐसे वृहदाणु (macromolecules) जो कि पुनरावृत्त संरचनात्मक इकाइयों के वृहत पैमाने पर जुड़ने से बनते हैं बहुलक कहलाते हैं। बहुलकों के कुछ उदाहरण हैं-पॉलिथीन, नाइलॉन-6, 6, बैकलाइट, रबर आदि। संरचना के आधार पर बहुलक तीन प्रकार के होते हैं रैखिक बहुलक (Linear polymers) शाखित श्रृंखला बहुलक (Branched chain polymers) तिर्यकबन्धित अथवा जालक्रम बहुलक (Cross linked polymers) (1) रैखिक बहुलक (Linear polymers) —– इन बहुलकों में लम्बी और रेखीय श्रृंखलाएँ होती हैं। उच्च घनत्व पॉलिथीन, पॉलिवाइनिल क्लोराइड आदि इसके उदाहरण हैं…